Tuesday, Apr 24, 2018 | Last Update : 10:05 AM IST

जॉनसन बेबी पाउडर से कैंसर होने का खतरा, ग्राहक को कंपनी से मिलेगा 760 करोड़ रुपए का हर्जाना

भारत में बेबी केयर (जॉन्सन एंड जॉन्सन) का मार्केट 93,000 करोड़ का है।
Apr 13, 2018, 12:11 pm ISTNationAazad Staff
Johnson's baby powder
  Johnson's baby powder

बेबी केयर मार्केट में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी जॉन्सन एंड जॉन्सन को एक बार फिर बड़ा झटका लगा है। अमेरिका की एक अदालत ने जॉन्सन एंड जॉन्सन कंपनी के एक ग्राहक को 760 करोड़ मुआवजा देने का आदेश दिया है। हालांकि इससे पहले अमेरिका की एक निचली अदालत में इस मामले में 240 करोड़ रुपए मुआवजा देने का आदेश दिया था।

जाने क्या र्है पूरा मामला -

न्यूजर्सी के 46 वर्षीय इन्वेस्टमेंट बैंकर स्टीफन लैंजो और उनकी पत्नी केंड्रा ने जॉन्सन एंड जॉन्सन के बेबी पाउडर से मेसोथेलियोमा नामक बीमारी होने का दावा किया था जिसके बाद उन्होने इस मामले में जनवरी के महीने में अदालत में केस दर्ज किया था और इस बीमारी का मुावजा मांगा था। बता दें कि मेसोथेलियोमा एक तरह का कैंसर है जो ऊतक, फेफड़ों, पेट, दिल और अन्य अंगों को प्रभावित करता है।

स्टीफन लैंजो ने अदालत में ये दावा किया था कि वो 30 साल से कंपनी का बेबी पाउडर इस्तेमाल कर रहे हैं। इसमें एसबेस्टस होने की वजह से उन्हें मेसोथेलियोमा हो गया है। लैंजो ने कहा कि कंपनी ने अपने उत्पादों पर किसी भी तरह की बीमारी या खतरा होने की कोई चेतावनी नहीं दी, जबकि कंपनी इस बारे में जानती है।

गौरतलब है कि बीते साल अगस्त में भी कंपनी को एक महिला को 475 करोड़ का मुआवजा देना पड़ा था। जिसमें महिला ने कंपनी प्रोडक्ट से ओवेरी कैंसर होने का दावा किया था। टैल्कम पाउडर से ओवेरी कैंसर का पहला मामला 1971 में सामने आया था।

Featured Videos!