विनायक दामोदर सावरकर ऐसे क्रांतिकारी जिनको २ आजीवन कारावास की सजा मिली

Saturday, Aug 15, 2020 | Last Update : 02:02 PM IST

follow us on google news

विनायक दामोदर सावरकर ऐसे क्रांतिकारी जिनको २ आजीवन कारावास की सजा मिली

भारतीय इतिहास में हिंदुत्व तथा राष्ट्रवाद के विस्तार के लिए विनायक दामोदर सावरकर को जाना जाता है। सावरकर को अण्डमान निकोबार द्वीप समूह स्थित सैल्यूलर जेल में कारावास की सजा दी गई थी। वे दस वर्षों तक काल कोठरी में एकाकी कैद की सजा भोगते रहे।
May 28, 2019, 1:33 pm ISTLeadersAazad Staff
Vinayak Damodar Savarkar
  Vinayak Damodar Savarkar

स्‍वतंत्रता संग्राम सेनानी विनायक दामोदर सावरकर का जन्‍म २८ मई, १८८३ को नासिक में हुआ था। उनके पिता दामोदर पंत गांव के प्रतिष्ठित व्यक्तियों में जाने जाते थे। सावरकर जब ९ साल के थे तभी उनकी मां राधाबाई का देहांत हो गया था।

उन्‍होंने भारत और ब्रिटेन में पढ़ाई के दिनों से ही क्रांतिकारी गतिविधियों में भाग लेना शुरू कर दिया था। ब्रिटेन में वह इस सिलसिले में इंडिया हाउस, अभिनव भारत सोसायटी और फ्री इंडिया सोसायटी से जुड़े।

१८५७ के भारत के प्रथम स्‍वतंत्रता संग्राम पर उन्‍होंने 'द इंडियन वार ऑफ इंडिपेंडेंस' (The Indian war of Independence) नामक पुस्‍तक लिखी। हालांकि इनकी किताब को प्रकाशन से पहले ही प्रतिबंधित कर दिया।

 १९०४ में उन्‍होंने अभिनव भारत नामक एक क्रान्तिकारी संगठन की स्थापना की। १९०५ में सावरकर ने बंगाल के विभाजन के बाद पुणे में विदेशी वस्त्रों की होली जलाई थी। उनके लेख इंडियन सोशियोलाजिस्ट और तलवार नामक पत्रिकाओं में प्रकाशित हुए। कई लेख कलकत्ता के युगान्तर में भी छपे।

क्रांतिकारी समूह इंडिया हाउस से जुड़े होने के कारण उनको १९१० में गिरफ्तार किया गया। उनको कुल ५० वर्षों की दो आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई और अंडमान एवं निकोबार द्वीप में स्थित सेल्‍युलर जेल में रखा गया। बता दें कि सावरकर को नासिक जिले के कलेक्टर जैकसन की हत्या के लिए नासिक षडयंत्र काण्ड के अंतर्गत अप्रैल, १९११  को काला पानी की सजा पर सेलुलर जेल भेजा गया।

सैल्यूलर जेल में उन क्रांतिकारियों को रखा जाता था जिनसे ब्रिटिश शासन खौफ खाता था। यहां पर स्‍वतंत्रता सेनानियों को कोल्‍हू में लगाया जाता था और तेल निकलवाया जाता था।  सावरक को १० साल की सजा सुनाई गई थी १९२१ में उन्हे रिहा कर दिया गया था।

जेल में रहने के दौरान सावरकर ने 'हिंदू राष्‍ट्रवाद' और 'हिंदुत्‍व' अवधारणा पर काफी कुछ लिखा। वह हिंदू महासभा के अध्‍यक्ष भी रहे। बता दें कि सावरकर दुनिया के अकेले स्वातंत्र्य-योद्धा थे जिन्हें २-२ आजीवन कारावास की सजा मिली, सजा को पूरा किया और फिर से वे राष्ट्र जीवन में सक्रिय हो गए।

२६ फरवरी १९६६ को उनका निधन हो गया। गौरतलब है कि अंडमान और निकोबार की राजधानी पोर्ट ब्‍लेयर के एयरपोर्ट का नाम वीर सावरकर अंतरराष्‍ट्रीय एयरपोर्ट रखा गया है। कुछ समय पहले शिवसेना ने सरकार से उनको मरणोपरांत भारत रत्‍न देने की मांग की थी।

...

Featured Videos!