Ram Nath Kovind

Monday, Sep 28, 2020 | Last Update : 10:50 AM IST

follow us on google news

Ram Nath Kovind (रामनाथ कोविंद)

रामनाथ कोविंद १४ वे राष्ट्पति, का जन्म 1 अक्टूबर 1945 गांव परिणख, देरपुर में हुआ जो अब कानपुर देहांत, उत्तर प्रदेश में स्थित है।
Jun 20, 2017, 9:35 am ISTLeadersSarita Pant
रामनाथ कोविंद
  रामनाथ कोविंद

ताज़ा खबर 20 जुलाई  2017: राष्ट्पति चुनाव में देश के १४ वे राष्ट्रपति बने न.डी.ए (राष्ट्रीय लोकतांत्रिक गठबंधन) उम्मीदवार रामनाथ कोविंद | 

यू.पी  के छोटे गांव  से राष्ट्पति भवन तक |  राम नाथ कोविंद को ६५ % वोट मिले ,रामनाथ कोविंद देश के नये
राष्ट्पति बने | कोविंद दलित समाज से है ओर देश को लगभग  दो दशक बाद दूसरा दलित राष्ट्पति मिला | रामनाथ कोविंद को ७०२०४४ वोट से जीत प्राप्त हुई | 

ताज़ा खबर 20 जून 2017: बिहार के राज्यपाल रामनाथ कोविंद ने गवर्नर पद से इस्तीफा दे दिया है।

उनके पिता मैकू लाल एक किसान थे उनकी माता का नाम कलावती था उनकी शादी ३० मई  १९७४ में सविता कोविंद से हुई , रामनाथ कोविंद जी का एक बेटा प्रशांत कुमार और एक बेटी स्वाति कोविंद  है , उनकी बेटी  स्वाति वकील की पढ़ई कानपुर से की है ओर एक अच्छी वकील है | रामनाथ कोविंद बिहार के वर्तमान गवर्नर है और भारत के राष्ट्पति के पद के लिए एनडीए उम्मीदवार हैं।

कोविंद एक दलित नेता हैं और भारतीय जनता पार्टी-भाजपा के एक राजनेता भी  हैं। कोविंद  1994-2000 और 2000-2006 के दो शब्दों के दौरान उत्तर प्रदेश राज्य से राज्यसभा से भी  चुने गए थे।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने १९ जून २०१७ को भाजपा की तरफ से भारत के राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए उम्मीदवार कोविंद जी का नाम  घोषित किया। कोविंद जी सन १९९८ -२००२ से भाजपा दलित मोर्चा के  पूर्व
राष्ट्पति और अखिल भारतीय कोली समाज के अध्यक्ष  भी हैं।

उन्होंने पार्टी के साथ राष्ट्रीय प्रवक्ता के रूप में भी काम किया। भारत के राष्ट्पति ने  ८ अगस्त २०१५ को उन्हें बिहार का राज्यपाल  भी नियुक्त किया था।

कोविंद ने कॉलेज कानपुर  से कानून में स्नातक होने के बाद, कोविंद नागरिक सेवा परीक्षा की तैयारी के लिए दिल्ली गए थे।
वह नागरिक सेवा परीक्षा में  दो बार पास करने में विफल रहा, लेकिन अपने तीसरे प्रयास में कोविंद सफल रहे ।

इस तरह से उन्होंने कानून का अभ्यास करना शुरू कर दिया। श्री रामनाथ कोविंद 1977 से 1979 के बीच दिल्ली उच्च न्यायालय में केंद्र सरकार के वकील और सर्वोच्च न्यायालय में 1980 से 1993 तक केंद्र सरकार के स्थायी वकील थे।

1978 में कोविंद भारत के सर्वोच्च न्यायालय के वकील बने। उच्च न्यायालय और सुप्रीम कोर्ट के लिए लगभग 16 साल तक काम किया ।  दिल्ली में बार कौंसिल के साथ 1971 में एक वकील के रूप में कोविंद जी का नामांकन किया था।

डॉ बी आर अंबेडकर विश्वविद्यालय से कोविंद ने लखनऊ के प्रबंधन बोर्ड और भारतीय प्रबंधन संस्थान, कोलकाता के गवर्नर्स बोर्ड के सदस्य के रूप में भी सेवा की है।

संयुक्त राष्ट् में कोविंद ने भारत का प्रतिनिधित्व किया और अक्टूबर, 2002 में संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित भी  किया। संसद सदस्य के रूप में, कोविंद अध्ययन यात्रा पर थाईलैंड, नेपाल, पाकिस्तान, सिंगापुर, जर्मनी, स्विटजरलैंड, फ्रांस, यूनाइटेड किंगडम और अमरीका का दौरा भी किया|

कोविंद को राष्ट्रीय छात्रवृत्ति के उम्मीदवार को अधिकार के लिए एक योद्धा के रूप में भी जाना जाता है और सोसायटी के कमजोर वर्ग विशेष रूप से अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति / अन्य पिछड़ा वर्ग / अल्पसंख्यक / भूमि महिला अपने छात्र दिवसों से कारण के रूप में भी  जाना जाता है।

कोविंद को शिक्षा के प्रसार में एक अग्रणी के रूप में भी जाना जाता है। अपने  12 वर्षों के संसदीय कार्यकाल के दौरान, कोविन्द ने उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में स्कूल भवनों के निर्माण में एमपीएलएडी योजना के तहत ग्रामीण क्षेत्रों में  शिक्षा के लिए बुनियादी ढांचे के विकास पर जोर दिया।

एक वकील के रूप में, कोविंद ने दिल्ली में  "नि: शुल्क कानूनी सहायता सोसाइटी" के तत्वावधान में समाज के कमजोर वर्गों, विशेष रूप से अनुसूचित जाति / अनुसूचित जनजाति की महिलाओं, गरीबों और गरीबों को मुफ्त कानूनी सहायता प्रदान करने में भी एक महत्वपूर्ण  भूमिका भी  निभाई है ।

...

Featured Videos!