मायावती की जीवनी…. कभी बनना चाहती थी आईएएस

Monday, Sep 28, 2020 | Last Update : 10:38 AM IST

मायावती की जीवनी…. कभी बनना चाहती थी आईएएस

मायावती ने अपने कार्यकाल के दौरान दलित और बौद्ध धर्म के सम्मान में कई स्मारक स्थापित किये।
Apr 14, 2018, 2:18 pm ISTLeadersAazad Staff
Mayawati
  Mayawati

मायावती का जन्म 15 जनवरी 1956 में एक दलित परिवार में, दिल्ली में हुआ था। उनकी माता का नाम रामरती और पिता का नाम प्रभु दयाल था। इनके पिता दूरसंचार केंद्र में अफसर थे। मायावती के 6 भाई और दो बहन हैं। मायावती कालिंदी कॉलेज, दिल्ली, से कला में स्नातक है। इसके बाद इन्होने दिल्ली विश्वविद्यालय से एल.एल.बी और बी. एड भी किया।

मायावती पढ़ने में बचपन से ही तेज थी। वो हमेशा से आईएएस बनना चाहती थी। ये बात बहुत कम ही लोग जानते है कि मायावती ने एक साथ 9वी, 10वी, और 11वीं की परिक्षा दी है। मात्र 16 साल की उम्र में उन्होने 12 वीं परिक्षा दी जिसमें उन्होने अच्छे नंबर से स्कोर किया।

सन 1984 तक मायावती ने बतौर शिक्षिका के रुप में काम किया। वे कांशी राम के कार्य और साहस से काफी प्रभावित थी। 1984 में जब कांशी राम ने एक नए राजनैतिक दल ‘बहुजन समाज पार्टी’ का गठन किया तो मायावती शिक्षिका की नौकरी छोड़ कर पार्टी की पूर्णकालिक कार्यकर्त्ता बन गयीं। उसी साल उन्होंने मुज्ज़फरनगर जिले की कैराना लोक सभा सीट से अपना पहला चुनाव अभियान आरंभ किया। सन 1985 और 1987 में भी उन्होने लोक सभा चुनाव में कड़ी मेहनत की। आख़िरकार सन 1989 में उनके दल ‘बहुजन समाज पार्टी’ ने 13 सीटो पर चुनाव जीता।

अपने राजनीतिक करियर को मायवती बढ़ाती चली गई और सन 1995 में वे उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री बन गई। 2002-2003 के दौरान भारतीय जनता पार्टी की गठबंधन सरकार में मायावती फिर से मुख्यमंत्री चुनी गई। सन 2007 में एक बार फिर से मायावती ने उत्तर प्रदेश की सत्ता हासिल की और चौथी बार उत्तर प्रदेश की मुख्यमंत्री नियुक्त हुयीं।

...

Featured Videos!