निर्मला सीतारमण भारत की पहली महिला रक्षा मंत्री

Monday, Sep 28, 2020 | Last Update : 10:58 AM IST

निर्मला सीतारमण भारत की पहली महिला रक्षा मंत्री

३ सितंबर २०१७ को निर्मला सीतारमण को भारत की पहली पूर्णकालिक महिला रक्षा मंत्री का दर्जा दिया गया |
Sep 6, 2017, 9:33 am ISTIndiansSarita Pant
Nirmala Sitharaman
  Nirmala Sitharaman

मई २०१४  में निर्मला सीतारमण  नरेंद्र मोदी के मंत्रालय में शामिल हो गयी । इससे पहले  वह भारतीय जनता पार्टी के लिए रवि शंकर प्रसाद की अध्यक्षता में छह प्रवक्ताओं की टीम के एक हिस्से के रूप में काम क्र रही थी|

निर्मला सीतारमण का जन्म ८ अगस्त  १९५९ भारत के तमिलनायडु राज्य के अय्यंगार परिवार में हुआ उनके पिता का नाम  श्री नारायण सीतारामन और माता का नाम  सावित्री  था।  उन्होने  बीए  की उपाधि  सेठलाक्ष्मी रामास्वामी कॉलेज तिरुचिरापल्ली से प्राप्त की  और  1980 में जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से अर्थशास्त्र में एमए की उपाधि प्राप्त की ।वह शास्त्रीय संगीत की  प्रेमी है  व्यक्तिगत और व्यावसायिक जीवन के बीच संतुलन बनाए रखने के लिए, वह महसूस करती है कि परिवार का समर्थन सबसे महत्वपूर्ण  है।

उनके पिता रेलवे में काम करते थे, जबकि उनकी मां एक गृहिणी थी और किताबों पढ़ने में उनकी बहुत रूचि थी । तमिलनाडु के अलग-अलग हिस्सों में उन्होंने अपना बचपन बिताया क्योंकि उनके पिता की नौकरी हस्तांतरणीय थी। वह हैदराबाद में प्रणव स्कूल के संस्थापक निदेशक हैं।सन १९८६  में उन्होंने पंचारल प्रभाकर से शादी की और कुछ समय के लिये वो लंदन भी गयी  १९९१  में वह भारत लौट आयी । उनकी एक  बेटी  भी है,  सीतारमण ने सबसे पहले प्राइसवाटरहाउस कूपर्स में एक सीनियर मैनेजर के रूप में काम किया, वह पहले राष्ट्रीय महिला आयोग के सदस्य थी |

निर्मला सन २००६  में भाजपा में शामिल हो गईं , उनके पति डा पारकला प्रभाकर सन २००७  में फिल्मकार चिरंजीवी द्वारा चलाए गए प्रेजरज्यम पार्टी में शामिल हो गए। २००० के दशक के प्रारंभ में, डॉ प्रभाकर भाजपा के आंध्र प्रदेश इकाई के प्रवक्ता थे। इस बीच, निर्मला धीरे धीरे भाजपा में लोकप्रियता हासिल कर रही थी । नितिन गडकरी के भाजपा अध्यक्ष के रूप में कार्यकाल के दौरान, मार्च २०१०  में निर्मला सीतारामण को छह पार्टी प्रवक्ताओं में से एक के रूप में शामिल किया गया था। तब से, वह भाजपा और नरेंद्र मोदी समेत इसके नेता के लिए बोलते हुए समाचार चैनलों पर नियमित रही है । दिलचस्प बात यह है कि पार्टी के प्रवक्ता के रूप में, वह दिल्ली के मुकाबले मोदी के शासन में काफी लोकप्रिय हो गईं| २०१४  के चुनावों के दौरान भाजपा के एक दृश्य प्रवक्ता के रूप में, निर्मला ने प्रधान मंत्री  मोदी के संदेश को प्रभावी ढंग से प्रस्तुत करके एक महत्वपूर्ण भूमिका निभायी। एनसीडब्ल्यू में उनके कार्यकाल के दौरान वह सुषमा स्वराज के संपर्क में आया  थी , जिन्होंने निर्मल को भाजपा में भूमिका के लिए बुलाया था।

२६  मई २०१४  को, निर्मला सीतारमण ने  वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के लिए राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) के रूप में शपथ ली , साथ ही वित्त और रपोरेट मामलों के राज्य मंत्री के रूप में भी उनको शपथ दिलाई गई, जो अरुण जेटली की अध्यक्षता वाली वित्त मंत्रालय के अधीन आ गई। उन्होंने आंध्र प्रदेश राज्य से राज्यसभा में चुनाव लड़ने और जीत हासिल की। वह ११  जून २०१६ को राज्यसभा चुनावों के लिए भाजपा द्वारा नामांकित 12 उम्मीदवारों में से एक थी | उन्होंने कर्नाटक राज्य  से चुनावों में सफलतापूर्वक चुनाव लड़ा।

...

Featured Videos!