धनतेरस 2018 : जानें धनतेरस पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

Monday, May 10, 2021 | Last Update : 01:38 AM IST

धनतेरस 2018 : जानें धनतेरस पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

धनतेरस के दिन चाँदी खरीदने की विशेष परंपरा है। चांदी को लेकर ये धारणा है कि चाँदी मनुष्य को जीवन में शीतलता प्रदान करता है। चांदी को चंद्रमा का प्रतीक माना गया है। धनतेरस के दिन चाँदी खरीदना शुभ इस लिए भी माना गया है क्यों कि चांदी कुबेर की धातु है और धनतेरस पर चाँदी खरीदने से घर में यश, कीर्ति, ऐश्वर्य और संपदा की वृद्धि होती है।
Oct 27, 2018, 3:21 pm ISTFestivalsAazad Staff
Dhanteras 2018
  Dhanteras 2018

कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन ही धन्वन्तरि का जन्म हुआ था इसलिए इस तिथि को धनतेरस के नाम से जाना जाता है। धन तेरस का अर्थ धन को तेरह गुणा करना होता है। भगवान धनवंतरी को औषधि का जनक भी कहा जाता है क्यों कि वो समुद्रमंथन के दौरान कई औषधियों को लेकर अपने साथ आए थे। धन्वन्तरि जो चिकित्सा का देवता कहा जाता है। इस दिन लोगों उनसे स्वास्थ्य और सेहत की कामना करते है। यहां धन का अर्थ समृद्धि है और तेरस का मतलब तेरह दिनों से है। दिवाली से ठिक एक दिन पहले धनतेरस मनाया जाता है। इस दिन धन और आरोग्य के लिए भगवान धनवंतरी पूजे जाते हैं। इस दिन गणेश और मां लक्ष्मी के साथ कुबेर की पूजा अर्चना की जाती है।

धनतेरस शुभ मुहूर्त

धन तेरस तिथि - 5 नवंबर 2018, सोमवार

धनतेरस पूजन मुर्हुत - 18:05 बजे से 20:01 बजे तक

प्रदोष काल - 17:29 से 20:07 बजे तक

वृषभ काल - 18:05 से 20:01 बजे तक

त्रयोदशी तिथि प्रारंभ - 01:24 बजे, 5 नवंबर 2018

त्रयोदशी तिथि समाप्त - 23:46 बजे, 5 नवंबर 2018

पूजा विधि -
धनतरेस पर धन्वंतरि और लक्ष्मी गणेश की पूजा करने के लिए सबसे पहले एक लकड़ी का पाटा लें और उस पर स्वास्तिक का निशान बनाएं। दीपक पर रोली और चावल का तिलक लगाएं। दिपक में थोड़ी सा मीठा डालकर भोग लगाएं फिर देवी लक्ष्मी और गणेश भगवान को कुछ पैसे चढ़ाएं। दीपक का आर्शीवाद लेकर दिए को मुख्य द्वार पर दक्षिण दिशा में रखे।

...

Featured Videos!